Hindi Stories With Moral

Hindi Stories With Moral – दोस्तों कई बार किसी  की मदद करना परेशानी भी पैदा कर सकता है ऐसी ही है यह
मछुवारा और जिन्न की यह कहानी आईये जानते है क्या है इस कहानी मै

Hindi Stories With Moral | मछुवारा और जिन्न

एक गाँव मै एक मछुवारा रहता था जो नदी के किनारे रोज मछलिया पकड़ने जाता था
और इसी से अपना जीवन यापन करता था | रोज की तरह वह एक दिन मछलियों को
पकड़ने नदी के किनारे जाता है , वह अपना जाल नदी मै डालकर मछलियों का जाल मै
फसने का इन्तेजार करने लगता है वह नदी के किनारे एक पेड़ की छाया मै बेठ जाता है

Hindi Stories With Moral | मछुवारा और जिन्न

थोड़े समय बाद जब वह जाल को देखता है तो पाता है की उस जाल मै कुछ मछलिया फस
गयी थी वह जाल को नदी से बाहर निकाल कर देखता है तो उस जाल मै 4 मछलिया फसी
हुई थी पर मछलियों के साथ साथ एक पुरानी बोतल भी थी जो की कई सों साल पुरानी लग
रही थी | मछुवारा उस बोतल को अच्छी तरह से हिला डुला देखता है और फिर वह उस बोतल
का धकन खोल देता है ..

धकन के खुलते ही एक बड़ी काली परेशायी उसके सामने प्रकट
हो जाती है ,यह देख वह मछुवारा बहुत घबरा जाता है , क्योकि उस काले साये ने एक जिन्न
का रूप ले लिया था , वह जिन्न उस मछुवारे को कहता है की मै कई सो सालो से इस बोतल मै
बंद था आज तूने मुझे आजाद कर दिया है और अब मै तुजे मार डालूँगा

Hindi Stories With Moral | मछुवारा और जिन्न

मछुवारा बहुत घबरा जाता है और उस जिन्न के आगे हाथ पैर जोड़ने लगता है फिर भी जिन्न बार
बार यही कहता है की अब तेरा समय खत्म हुआ अब मरने के लिए तेयार हो जा

मछुवारा जिन्न से फिर कहता है की हे जिन्न मैंने तो तुमें इस बोतल से आज़ाद किया है और अब
तूम मेरी जान ही लेना चाहते हो , फिर भी जिन्न उस मछुवारे की कोई बात नहीं सुनता
फिर वह मछुवारा जिन्न कहता है की क्या तुम मुझे मारने से पहले मेरी अंतिम इच्छा पूरी कर सकते हो

जिन्न थोडा सोचता है और कहता है ठीक है तुम अगर मरने से पहले अपनी अंतिम इच्छा पूरी
करवाना चाहते हो तो मै जरुर करूँगा बोलो क्या इच्छा है तुम्हारी
मछुवारा जिन्न से कहता है की तुम इतने बड़े हो तुम्हारे पास इतनी शक्तिया है तुम्हारा शर्रीर भी
इतना बड़ा है पर मुझे अभी भी यकीन नहीं आता की तुम इस छोटी सी बोतल मै कैद थे , यह कैसे
संभव है तुम इस बोतल मै रह ही नहीं सकते थे

Hindi Stories With Moral | मछुवारा और जिन्न

जिन्न कहता है मै इसी बोतल मै कैद था और तुमने ही मुझे आज़ाद किया है

मछुवारा फिर कहता है मै यह बात कभी नहीं मान सकता मेरी अंतिम इच्छा यही है की तुम साबित
करो की तुम्हारा इतना बड़ा शरीर इस बोतल मै कैद था |
यह बात सुन कर जिन्न बहुत गुस्सा हो जाता है फिर भी वह कहता है ठीक है मारने से पहले तुम्हरी
यह अंतिम इच्छा भी मै जरुर पूरी कर देता हु
जिन्न अपने अकार को छोटा कर पुन उस बोतल मै प्रवेश कर जाता है ..मछुवारा यह मौका पाकर
उस बोतल को फिर से पहले की तरह बंद कर देता है और उस बोतल को नदी मै फेककर वहा से चला जाता है

मोरल – मछुवारे ने होशियारी से अपनी जिन्दगी बचा ली , अगर कोई आपकी मदद करता है तो उस व्यक्ति के एहसान को मानना चाइये , किसी भी गिरी हुई या पड़ी हुई वस्तु को छूने से पहले 100 बार सोचे क्योकि आज के समय मै उस वस्तु मै से जिन्न बाहर निकले या ना निकले बम जरुर निकल सकता है

दोस्तों आपको हमारी यह कहानी “ Hindi Stories With Moral | मछुवारा और जिन्न ” कैसी लगी हमें Comment Section में ज़रूर बताएं और हमारा फेसबुक पेज जरुर Like करें|

यह भी पढ़े

 

Share
Loading...

About Singh Fact

सतश्रीअकाल दोस्तों मेरा नाम हरप्रीत सिंह है | सिंह फैक्ट डॉट काम मै आपका स्वागत है यहाँ पर आपको पढने के लिए मिलेगे रियल फैक्ट्स एंड स्टोरीज इन हिंदी मै और पंजाबी स्टेटस और शायरी , बस आप लोगो के प्यार और सपोर्ट की जरूरत है वह देते रहिये

View all posts by Singh Fact →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.