Hindi Short Story with Moral | झूठी अफवाह 

Hindi Short story with moral

Hindi Short Story with Moral | झूठी अफवाह  दोस्तों इस कहानी मै आपको पढने और जानने के लिए मिलेगा की कैसे एक अफवाह ने एक लड़के को समाज की नजरो से गिरा दिया

Hindi Short Story with Moral | झूठी अफवाह

एक गाँव मे एक बुढा व्यक्ति रहता था जो किसी ना किसे के बारे मे कुछ ना कुछ गलत
बोलता रहता था | उसके पड़ोस में एक लड़का रहता जो बहुत ईमानदार और अच्छे चरित्र का था
बूढ़े आदमी ने उस लड़के के बारे मे झूटी  अफवाहें फैला दी  कि उसका पड़ोसी चोर है । कुछ ही
दिनों मे खबर पुरे गाँव मे फ़ैल गयी और कुछ समय बाद ही गाँव मे एक चोरी हो गयी सबको
लगा चोरी उसी लड़के ने की है नतीजतन, उस लड़के  को गिरफ्तार किया गया ।

कुछ दिनों बाद युवा व्यक्ति निर्दोष साबित हुआ। रिहा होने के बाद, वह बहुत अपमानित महसूस कर रहा था
क्योंकि वह अपने घर गया था। और सब लोग उसे एक अजीब नजर से देख रहे थे |
उस लड़के ने बूढ़े आदमी पर गलत आरोप लगाने के लिए मुकदमा दायर किया। अदालत में,
बूढ़े आदमी ने न्यायाधीश से कहा, “में  सिर्फ मजाक कर रहा था  , मेने किसी को भी नुकसान
नहीं पहुंचाया ..” न्यायाधीश ने मामले पर सजा देने से पहले बूढ़े आदमी से कहा, “उन सभी
चीजों को इस कागज  पर  लिखो  जो  आपने उसके बारे में कही थी ।

लिखने के बाद
न्यायाधीश ने कहा  इस काग़ज को काट कर छोटे छोटे टुकड़े करदो बूढ़े आदमी ने वेसा ही
किया  न्यायाधीश  ने अब कहा की घर जाते समय इन टुकडो को रास्ते मे फेकते हुए जाना।
और कल फैसला सुनने के लिए वापिस आना “।
अगले दिन, न्यायाधीश ने बूढ़े आदमी से कहा, “न्याय सुनने  से पहले, आपको बाहर
जाना होगा और कागज़ के सभी टुकड़े इकट्ठा करके यहाँ लाने  होगे  जिन्हें आपने
कल बाहर फेंक दिया था”। बूढ़े आदमी ने कहा, “मैं ऐसा नहीं कर सकता!

Hindi Short Story with moral

पता नहीं वह
कागज़ कहा कहा हवा के साथ उड़ गए होगे और मुझे नहीं पता कि में  उन्हें
कहां से वापिस लाऊंगा “। न्यायाधीश ने तब जवाब दिया, “जेसे आप उन फैले हुए
कागज को फिर से इकठा नहीं कर सकते तो वेसे ही एक बार  नष्ट  हुई इज्जत को
इकठा नहीं कर सकते | और जेसे वह कागज हवा मे उड़ गए होगे वेसे ही किसी के बारे
में  मुह से निकली हुई गलत बात भी उड़ जाती है । बूढ़े आदमी ने अपनी गलती को महसूस
किया और क्षमा मांगी  “।

Story Moral: तथ्यों या सत्य को जानने के बिना किसी को भी  दोष न दें।
आपके शब्द किसी की गलती के बिना किसी की प्रतिष्ठा को बर्बाद कर सकते हैं।

दोस्तों आपको हमारी यह कहानी “ Hindi Short story with moral |झूठी अफवाह ” कैसी लगी हमें Comment Section में ज़रूर बताएं और हमारा फेसबुक पेज जरुर Like करें|

यह भी पढ़े

Share

About Singh Fact

सतश्रीअकाल दोस्तों मेरा नाम हरप्रीत सिंह है | सिंह फैक्ट डॉट काम मै आपका स्वागत है यहाँ पर आपको पढने के लिए मिलेगे रियल फैक्ट्स एंड स्टोरीज इन हिंदी मै और पंजाबी स्टेटस और शायरी , बस आप लोगो के प्यार और सपोर्ट की जरूरत है वह देते रहिये

View all posts by Singh Fact →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.