Guru Har Rai Ji History Hindi( जाने गुरु हर राय जी के बारे मै )

guru har rai ji

Guru Har Rai Ji– दोस्तों इस पोस्ट मै हम आपको बतायेगे के बारे मै इस पोस्ट मै आप Guru Har Rai Ji History Hindi भाषा मै जान पायेगे | तो चलिए बताते है आपको सिख धर्म के सातवे नानक Guru Har Rai Ji के बारे मै

Guru Har Rai Ji History In Hindi

श्री Guru Har Rai Ji सिक्ख धर्म के सातवें गुरु सातवें गुरु नानक थे। गुरू हरगोविन्द
साहिब जी ने ज्योति जोत समाने से पहले, अपने पोते हर राय जी को जिनकी उम्र उस समय
१४ वर्ष की थी ३ मार्च 1644 को गुरु की गद्दी देकर ‘सप्तम्‌ नानक’ के रूप में घोशित किया था।
Guru Har Rai Ji का जन्म 31 जनवरी 1630 ईस्वी को हुआ ।

guru har rai ji
Guru Har Rai Ji

गुरु हर राय जी के पिता जी का नाम गुरदित्ता तथा माता जी का का नाम नेहाल कौर था।
Guru Har Rai Ji बचपन से ही अपने दयालु और शांत स्वभाव से जाने जाते थे। जब वह 6 साल
के एक छोटे से बच्चे थे तब वह एक बार अपने बगीचे मै टहल रहे थे उन्होंने कलगी वाला चोला पहना
हुआ था उस चोले की वजह से कुछ फुल उनके कपड़ो से रगड़ खा कर टूट गए जिनका उन्हें बहुत दुःख
हुआ और तबसे वह जब भी बगीचे मै टहलते तो हमेशा ध्यान रखते की उनके कपड़ो की वजह से किसी भी
पोधे या फूल को कोई नुक्सान न हो |
यह छोटा सा एक उधारण यह बताने के लिए काफी है की बाल अवस्था से ही उनमे कितनी दयालुता थी

Guru Har Rai Ji Biography In Hindi

गुरु हर राय जी (Guru Har Rai Ji) ने अपने जीवन में बहुत महत्वपूर्ण कार्य किये है
वह सिख धर्म मै पहले गुरु थे जो एक वैध थे बचपन से ही उनकी रूचि जड़ी बूटियों और
उनसे बनी दवाइयों की मदद से लोगो को राहत पहुचाने उनकी मदद करने मै थी । क्योकि
उस समय बिमारिया बहुत जल्दी फैलने लगती थी जिनकी वजह से लाखो की तादाद मै लोग
सही इलाज़ न मिल पाने के कारण अपने प्राण गवा बैठते थे | गद्दी को सँभालने के बाद (Guru Har Rai Ji ने आयुर्वेदिक दावा खानों और अस्पताल बनाने मै काफी जोर दिया था क्योकि वह जानते थे की मनुष्य
के लिए प्रक्रति द्वारा दिया गया सबसे बड़ा उपहार उसका स्वास्थ है अगर वह सही रहेगा शरीर
रोगों से मुक्त रहेगा तो ही राज्य और देश सही से तरक्की कर पायेगा|

Guru Har Rai Ji Story In Hindi

गुरु जी ने किरतपुर मै एक बहुत बड़े अनसुधान केन्द्र की स्थापना भी की थी ।जहा पर
अच्छे वैध रखे गए अनेको तरह के इलाज और दवाइया वहा लोगो को फ्री मै बाटी जाती वहा
पर कोई भी व्यक्ति अपना इलाज फ्री मै करवा सकता था यह सेवा गुरु जी ने रखी हुई थी |
इस तरह कुछ ही समय मै उनके इलाज और दवाखाने देश भर मै बहुत जल्दी प्रसिध हो गए
लोग दूर दूर से वह पहुच कर अपनी बीमारियों का इलाज मुफ्त मै करवाने लगे

एक बार की बात है की दारा शिकोह जो की शाह जाँ का पुत्र था वह बीमार हो गया
क्योकि ओरंगजेब ने चालाकी से दारा शिकोह के खाने मै शेर के मुच्छ के बाल मिला
दिए थे | उसने ऐसा इसलिए किया था क्योकि शाह जाँ अपने पुत्र दारा शिकोह से कुछ ज्यादा
ही लगाव रखता था और यह बात ओरंगजेब को कभी हजम नहीं हो पाती थी इसलिए उसने
दारा शिकोह को मारने के लिए ऐसा किया था |

Guru Har Rai Ji History In Hindi

दारा शिकोह का पेट खराब हो गया शाह जाँ ने अपने बड़े बड़े हकीमो से उसका इलाज करवाया
पर उस से दारा शिकोह की सेहत ठीक नहीं हो पा रही थी तब हकीमो ने शाह जाँ को किरतपुर के
दवा खानों से दवाई मंगवाकर उसे दारा शिकोह को खिलाने के लिए कहा | शाह जाँ ने कहा जिन
लोगो पर मै हमला करते आया हु वह मेरे पुत्र को दवाई क्यों देंगे तब पीर हसन अली  ने कहा की लोगो की सेवा
करने की यह प्रथा उनके गुरु नानक ने चलायी हुई है और गुरु के घर मै कोई दुश्मन नहीं होता है |

गुरु नानक का किसी के साथ कोई वैर नहीं है उनकी शरण मै जो जाता है वह उसकी मदद
जरुर करते है

वह निस्वार्थ आपकी मदद करेगे उनकी यह बात मानकर शाह जाँ ने ऐसा ही किया उन्होंने गुरु हर राय
जी को पत्र लिख कर अपनी समस्या बताई और दवाई भेजने का आग्रह किया गुरु जी ने समय न गवाते
हुए तुरंत दवाइया शाह जाँ को भेज दी जिसे खा कर कुछ ही दिनों मै उनका पुत्र बिलकुल ठीक हो गया

कुछ समय बाद ठीक होने के बाद दारा शिकोह खुद चल कर किरत पुर पंहुचा था गुरु हर राय जी भेट देने
मित्रो इस बात से हमे यह पता चलता है की गुरु के घर मै या सेवा करते समय कोई दुश्मन नहीं होता सब
एक समान होते है यह एक बहुत अच्छा उधारण था जो गुरु हर राय जी के व्यक्तित्व को दर्शाता है

गुरु हर राय पर और किरतपुर पर हमले की कोशिशे

Guru Har Rai Ji Story In Hindi

अपने पिता को बंधी बना और अपने भाइयो और बड़े पुत्रो का कतल कर देने के बाद ओरंगजेब
बादशाह बन गया बादशाह बनने के बाद उसने गुरु हर राय जी को दिल्ली आने का नियोता भेजा |
जिसका जवाब गुरु जी ने कुछ इस तरह दिया की मैंने न तुम्हारी सल्तनत को दबाया है न तुम्हरी
जमीन दबाई है न तुम्हारा कुछ बुरा किया है तो मै दिल्ली मै आकर क्या करूँगा , तुम अपना राजपाठ
संभालो और हमे यहाँ पर लोगो की सेवा करने दो

ऐसा उत्तर पाकर ओरंगजेब को लगा की उसके नियोते को न मानकर उसका अपमान किया गया है|
गुस्से मै आकार उसने लाहोर के गवर्नर को हर राय जी को बंधी बना कर दरबार मै पेश करने का
हुक्म जारी कर दिया ,लाहौर के गवर्नर ने जालिम खान को यह काम सोपा , जालिम खान 10000
घुड़सवार की फ़ौज लेकर किरतपुर की तरफ रवाना हो गया पर रास्ते मै वह जब एक जगह रुका तो
उसने वहा कच्चे मॉस को खाया जिसकी वजह से उसकी मौत हो गयी
जालिम खान उस सेना का मुख्य था जो मर चूका था जिस वजह से वह फ़ौज लाहौर वापिस लोट आई

Guru Har Rai Ji History In Hindi

थोड़े ही समय बाद गवर्नर ने कंधार के जरनेल को अब यह काम सोपा , कंधार का जरनेल जब जालन्धर
के पास पंहुचा तो रात को सोते समय उसके किसी दुश्मन ने उसे सोते हुए ही मार दिया जिस वजह से इस
बार भी फ़ौज वापिस लोट गयी|

तीसरी बार लाहौर के गवर्नर ने सहारनपुर के नहर खां को किरतपुर पर हमले के लिए भेजा पर रास्ते मै ही

उसकी फ़ौज मै हेजे की बीमारी फ़ैल जाने के कारण उसे भी खाली हाथ वापिस लोटना पड़ा |

अपने पुत्र को किया था बेदखल गुरु की बाणी को तोड़ मरोड़ कर पेश करने के लिए

गुरु हर राय जी हमेशा से ही गुरु की बाणी को मानते और लोगो को उस रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करते थे

जब एक बार उनके छोटे पुत्र राम राय जी जिनकी उम्र उस समय 11 वर्ष थी उन्होंने एक
बार ओरंगजेब के सामने गुरु ग्रन्थ साहिब मै लिखी हुई बाणी का सही अर्थ जानते हुए भी गलत  अर्थ
पेश किया था| तो गुरु हर राय जी ने अपने पुत्र को इस गलती की सजा अपने राज पाठ से बेदखल
करके दी थी |

ज्योति जोत | Guru Har Rai Ji Death Story In Hindi

गुरु हर राय जी रविवार , 20 October, 1661 को ज्योति जोत समा गए थे पर अपनी मर्त्यु से पहले वह इसी दिन अपने सबसे छोटे पुत्र गुरु हर किशन जी को 5 साल की उम्र मै अपनी गद्दी प्रदान कर गए थे

यह भी पढ़े

दोस्तों  यह Guru Har Rai Ji की कहानी  को अपने मित्रो और परिवार वालो के साथ शेयर अवश्य करे और हमारे फेसबुक पेज को यहाँ से  Like करके हमे सपोर्ट करे धन्यवाद  – सतश्रीअकाल 

Share
Loading...

About Singh Fact

सतश्रीअकाल दोस्तों मेरा नाम हरप्रीत सिंह है | सिंह फैक्ट डॉट काम मै आपका स्वागत है यहाँ पर आपको पढने के लिए मिलेगे रियल फैक्ट्स एंड स्टोरीज इन हिंदी मै और पंजाबी स्टेटस और शायरी , बस आप लोगो के प्यार और सपोर्ट की जरूरत है वह देते रहिये

View all posts by Singh Fact →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.