अंतिम प्रयास | Inspirational Stories In Hindi | बेस्ट हिंदी कहानी

Inspirational Stories in Hindi__1552253738_223.176.168.4

Inspirational Stories In Hindi – नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है सिंह फैक्ट डॉट कॉम पर और आज की एक नयी कहानी पर जो की एक Motivational Story In Hindi है चलिए शुरू करते है यह कहानी अंतिम प्रयास  | Inspirational Stories In Hindi

दोस्तों, मोटिवेशन और Inspiration भी उतना ही जरुरी है जितना खाना क्योकि जब तक हमारे अन्दर किसी चीज़ या कार्य को करने मोटिवेशन नहीं होगा तब तक वह कार्य करने मै मज़ा नहीं आयेगा , कहानिया पढ़ कर या वीडियोस देख कर हम खुद को हमेशा मोटीवेट करने की कोशिश करते रहते है , जो की सही भी है

क्योकि ऐसी चीज़े पढने या देखने से हमारे मन मै बहुत अच्छे विचार आते है हम निगेटिव चीजों से दूर होते है | और मै आपसे एक बात और कहना चाहता हु की हम जेसा सोचते है हम वैसे ही बन जाते है अगर आप अच्छा सोचोगे तो अच्छे बन जाओगे और बुरा सोचोगे तो बुरे बन जाओगे क्योकि यह प्रकति का एक नियम है की इंसान जेसा सोचता है वह धीरे धीरे वैसा ही बनने लगता है इसलिए अगर कुछ सोचना ही है तो बड़ा सोचो अच्छा सोचो|

Inspirational Stories In Hindi | अंतिम प्रयास

Inspirational Stories in Hindi__1552253738_223.176.168.4

एक राज्य में एक राजा राज करता था. एक दिन उसके दरबार में एक विदेशी मेहमान आया और उसने राजा को एक सुंदर पत्थर उपहार मै प्रदान किया.

राजा वह पत्थर देख बहुत प्रसन्न हुआ. उसने उस पत्थर से भगवान विष्णु की एक खुबसूरत प्रतिमा का निर्माण कर उसे अपने राज्य के मंदिर में स्थापित करने का फैसला किया और प्रतिमा के निर्माण का कार्य राज्य के महामंत्री को सौंप दिया गया

महामंत्री ने अपने राज्य मै सर्वश्रेष्ठ मूर्तिकार को बुलवाया और उसे वह पत्थर देते हुए कहा , “महाराज मंदिर में भगवान विष्णु की प्रतिमा स्थापित करना चाहते हैं सात दिन के अन्दर इस पत्थर से भगवान विष्णु की प्रतिमा तैयार करो इसके लिए तुम्हें 50 स्वर्ण मुद्रायें दी जायेंगी.”

50 स्वर्ण मुद्राओं की बात सुनकर मूर्तिकार बहुत खुश हो गया और महामंत्री के जाने के बाद प्रतिमा का निर्माण कार्य शुरू करने के उद्देश्य से अपने सारे औज़ार निकाल लिए. सबसे पहले मूर्तिकार ने अपने औज़ारों में से हथौड़ा लिया और पत्थर तोड़ने के लिए उस पर हथौड़े से वार करने लगा. पर वह पत्थर नहीं टुटा . मूर्तिकार ने हथौड़े के कई वार बार बार पत्थर पर किये. पर वह पत्थर नहीं टूटा|

पचास से अधिक बार प्रयास करने के बाद मूर्तिकार ने आखरी बार प्रयास करने के उद्देश्य से हथौड़ा उठाया, किंतु यह सोचकर हथौड़े पर प्रहार करने के पूर्व ही उसने हाथ खींच लिया क्योकि मूर्तिकार ने सोचा जब पचास से अधिक बार वार करने से यह पत्थर नहीं टूटा, तो अब क्या टूटेगा यह पत्थर को तोडना बहुत मुश्किल है

Inspirational Stories In Hindi | अंतिम प्रयास

वह मूर्तिकार महामंत्री के पास गया और उनसे कहने लगा कि इस पत्थर को तोड़ना नामुमकिन है इसलिए इस पत्थर से भगवान विष्णु की मूर्ति नहीं बन सकती.
लेकिन महामंत्री को राजा का आदेश हर स्थिति में पूर्ण करना ही था| इसलिए उसने भगवान विष्णु की मूर्ति निर्माण करने का काम गाँव के एक साधारण से मूर्तिकार को सौंप दिया| उस साधारण से मूर्तिकार ने पत्थर पर हथोड़े से एक प्रहार किया और वह पत्थर एक बार में ही टूट गया|
पत्थर टूटने के बाद मूर्तिकार प्रतिमा बनाने में तुरंत जुट गया और जल्दी ही उसने मूर्ति बना कर 50 स्वर्ण मुद्राए अर्जित करली | जब इस बात का पता पहले वाले मूर्तिकार को चला तो वह सोचने लगा कि काश मैंने आखरी प्रयास और किया होता तो सफ़ल हो गया होता और 50 स्वर्ण मुद्राओं का हक़दार बनता|

  • कहानी से सीख

हमारे जीवन में ऐसी परिस्थितियों अक्सर आती रहती है कई बार किसी कार्य को करने के पूर्व या किसी समस्या के सामने आने पर हमारा आत्मविश्वास डगमगा जाता है और हम प्रयास किये बिना या थोडा सा प्रयास करके ही हार मान लेते हैं. कई बार ऐसा भी होता है की एक या दो प्रयास में असफलता मिलने पर हम आगे प्रयास करना छोड़ देते हैं|

पर याद रखिये हो सकता है कि कुछ प्रयास और करने पर वह कार्य पूर्ण हो जाता या उस समस्या का समाधान आपके सामने आ जाता यदि जीवन में सफलता प्राप्त करनी है, तो याद रखिये बार-बार प्रयास करते रहिये असफ़ल होने पर भी तब तक प्रयास करना नहीं छोड़ना चाहिये, जब तक सफ़लता आपके कदमो मै ना हो | हो सकता है जिस प्रयास को करने के पूर्व हम हाथ पीछे खींच लेते है , वही हमारा आखरी प्रयास हो और उसके बाद हमें कामयाबी प्राप्त हो जाये|

 

दोस्तों आपको यह अंतिम प्रयास |Inspirational Stories In Hindi  कैसी लगी हमे कमेंट के माध्यम से जरुर बताये और इस  जानकारी  को  Facebook  Whatsapp  Instagram   Twitter पर शेयर जरुर करे और हमारे फेसबुक पेज को यहाँ से Like कर हमे सुपोर्ट करे  -धन्यवाद और सतश्रीअकाल

यह भी देखे

Share

About Singh Fact

सतश्रीअकाल दोस्तों मेरा नाम हरप्रीत सिंह है | सिंह फैक्ट डॉट काम मै आपका स्वागत है यहाँ पर आपको पढने के लिए मिलेगे रियल फैक्ट्स एंड स्टोरीज इन हिंदी मै और पंजाबी स्टेटस और शायरी , बस आप लोगो के प्यार और सपोर्ट की जरूरत है वह देते रहिये

View all posts by Singh Fact →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.