असली चोर कोन ?(Bachon Ki Kahani In Hindi) हिंदी Kahaniyan

Bachon Ki Kahani

Bachon Ki Kahani In Hindi –  कहा जाता है की बच्चों में भगवान् बसा होता है|और बच्चे हमेशा मन के सच्चे होते है इसीलिए हम इस पेज पर बच्चों की लेकर आये है Bachon Ki kahaniyan क्योकि ऐसी Bachon Ki Kahani In Hindi उन्हें और हमें ज़िन्दगी में कई बातें सिखा जाती है|

असली चोर कोन ?Bachon Ki Kahani In Hindi

बहुत समय पहले की बात है एक गांव में कर्मवीर और धरमवीर नाम के दो दोस्त रहते थे|
एक बार वे धन कमाने के लिए अपना गांव को छोड़कर शहर गए शहर मै जाकर उन्होंने
बहुत मन लगा कर काम किया और वहा से वह दोनों ख़ूब सारा धन कमाकर गाँव की तरफ
चल दिया |उन्होंने सोचा कि अगर हम इतना सारा धन घर में रखेंगे, तो ख़तरा हो सकता है

कोई भी चोर डाकू हमें लूट सकता है इसलिए बेहतर होगा कि इसे घर में न रखकर किसी और जगह
पर रख दें, उनके घर के पास ही एक नीम का पेड़ था इसलिए उन्होंने उस धन को नीम के पेड़ के
नीचे गड्ढा खोदकर दबा दिया

Bachon Ki Kahani
असली चोर कोन ?Bachon Ki Kahani In Hindi

असली चोर कोन ?Bachon Ki Kahani In Hindi

और दोनों ने मिलकर यह भी समझौता किया कि जब भी धन निकालना होगा, हम साथ-साथ
आकर निकाल लेंगे. कर्मवीर बेहद भोला और नेक दिल इंसान था, पर धरमवीर बेईमान किस्म
का व्यक्ति था. वह अगले दिन चुपके से नीम के पेड़ के नीचे से धन निकालकर ले गया, उसके
बाद वह कर्मवीर के पास आया और बोला कि मुझे कुछ धन की जरूरत है चलो कुछ धन निकाल
लाते हैं. जब दोनों मित्र नीम के पेड़ के पास आए, तो देखा कि धन वहा से गायब है.

मौका देख धरमवीर ने फौरन कर्मवीर पर धन के चोरी करने का इल्ज़ाम लगा दिया |
दोनों मे इस बात झगड़ा होने लगा झगड़ा इतना बढ़ गया की वहा के बात राजा तक पहुंची,
तो राजा ने कहा कि कल नीम के पेड़ की गवाही के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा ईमानदार
कर्मवीर ने सोचा कि सब ठीक है नीम भला झूठ क्यों बोलेगा? कल धरमवीर का सच सामने आ जायेगा
धरमवीर ने भी ख़ुशी-ख़ुशी यह बात स्वीकार कर ली | दूसरे दिन राजा धरमवीर और कर्मवीर
के साथ जंगल में गया. उनके साथ गांव के कुछ अन्य लोग भी थे जो इस घटना का सच जानना
चाहते थे राजा ने नीम से पूछा- हे नीमदेव अब आप ही बताओ धन किसने चुराया है?

असली चोर कोन ?Bachon Ki Kahani In Hindi

कर्मवीर ने नीम की जड़ से आवाज़ सुनाई दी
यह सुनते ही कर्मवीर राजा के सामने रोने लगा और बोला- महाराज, पेड़ कभी झूठ नहीं बोल
सकता, पर इसमें ज़रूर किसी की कोई चाल या धोखा है.
राजा ने पूछा कैसी चाल कर्मवीर ?

रुकिए महाराज मैं अभी सिद्ध करता हूं यह कहकर कर्मवीर ने कुछ लकड़ियां इकट्ठी की और
पेड़ के तने के पास रख कर उनमें आग लगा दी
तभी पेड़ के नीचे से बचाओ-बचाओ की आवाज़ आने लगी राजा ने तुरंत अपने सिपाहियों को आदेश
दिया कि जो भी है उसे बाहर निकाला जाये सिपाहियों ने पेड़ के खोल में बैठे एक आदमी को बाहर
निकाला उस आदमी को देखते ही सब आश्चर्य मै पड़ गए | क्योंकि वह व्यक्ति धरमवीर का पिता था
जो उस पेड़ के तने के नीचे छुप कर बेठा था अब राजा सारा खेल को समझ चूका था |

असली चोर कोन ?Bachon Ki kahaniyan

उसने तुरंत धरमवीर और उसके पिता को जेल में डलवा दिया और उसके घर से छुपा  हुआ धन
ज़ब्त करके उसे कर्मवीर को दे दिया करमवीर की इस ईमानदारी को देख राजा ने उसे और भी
बहुत सारा ईनाम व धन दिया|

Story Moral : विपरीत परिस्थितियों में भी अपना आपा नहीं खोना चाहिए| अगर कर्मवीर अपना आपा खो देता
तो वह कभी यह सिद्ध नहीं कर पाता की वह सच्चा है कभी भी लालच मै आकार गलत कार्य ना करे
कठिन समय में भी डरने की बजाय उसका मुकाबला करने की हिम्मत करें और हमेशा शांत होकर
अपने दिमाग से फैसले करे

दोस्तों आपको असली चोर कोन ?Bachon Ki Kahani In Hindi कैसी लगी लगी हमे कमेंट करके बताये और हमारे फेसबुक पेज को यहाँ से Like  कर हमे सुपोर्ट करे -धन्यवाद और सतश्रीअकाल

हमारी अन्य कहानिया भी पढ़े
Share

About Singh Fact

सतश्रीअकाल दोस्तों मेरा नाम हरप्रीत सिंह है | सिंह फैक्ट डॉट काम मै आपका स्वागत है यहाँ पर आपको पढने के लिए मिलेगे रियल फैक्ट्स एंड स्टोरीज इन हिंदी मै और पंजाबी स्टेटस और शायरी , बस आप लोगो के प्यार और सपोर्ट की जरूरत है वह देते रहिये

View all posts by Singh Fact →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.