Sri Guru Amar Das Ji story in Hindi

Sri Guru Amar Das Ji story in hindi – दोस्तों इस पोस्ट मे आपको जानने के लिए मिलेगी Sri Guru Amar Das Ji History in hindi तो अगर आप जाना चाहते है की Guru Amar Das Ji Kon The तो इस पोस्ट को पूरा पढ़िए यहाँ आपको Guru Amar Das Ji के  बारे मे  सारी जानकारी प्राप्त हो जाएगी

Sri Guru Amar Das Ji story in hindi

(ਗੁਰੂ ਅਮਰ ਦਾਸ ਜੀ)(गुरु अमर दास जी )

(5 मई 1479 – 1सितंबर 1574)

Sri Guru Amar Das Ji story in hindi-गुरु अमर दास जी का जनम 5 मई 1479 को बासरके गिल्लां  गाँव जो
अमृतसर पंजाब में स्थित जगह पर जनम लेकर उस धरती को पवित्र किया।
गुरु अमर दास जी का जनम नानक जी के जनम के १० साल बाद हुआ था।
श्री गुरु अमर दास जी के पिता तेज भान और माता बख्ती  जी थे ।

गुरु अमर दास जी को सिख बनने से पहले भाई अमर दास जी नाम से
जाना जाता था , भाई अमर दास जी एक बहुत ही धार्मिक वैष्णव हिन्दू थे।Sri Guru Amar Das Ji story in hindi
जिन्होंने अपना  अधिकांश जीवन धार्मिक पूजा पाठ धार्मिक यात्रा धार्मिक अनुष्ठानों में बिताया।

भाई अमर दास जी का विवाह माता मनसा देवी जी से हुआ तथा उनके 4 बच्चे
हुए  पुत्र (भाई मोहन और भाई मोहरी)और पुत्रिया (बीबी भानी और बीबी दानी )।

अगर आपको बीबी भानी जी के बारे मे पढना है तो आप इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते है

 गुरु अंगद देव जी से मुलाकात – Guru Angad Dev Ji Se Mulakat

Guru Amar das ji ki Guru Angad Dev Ji se Mulakat Kaise Hui

एक बार भाई अमर दास जी ने गुरु नानक जी के सबद  बीबी अमरो जी के मुख से सुने ,बीबी अमरो जी गुरु अंगद देव जी की पुत्री थी। जिनका विवाह भाई जसो जी से हुआ था। भाई जसो जी के पिता का नाम भाई मानक चंद जी था। जो भाई अमर दास के छोटे भाई थे, जो उनके घर के पास ही रहते थे ,

बीबी अमरो जी जी जब सबद गा रही थी। तब भाई अमर दास जी आस पास थे वेह सबद सुनने के बाद वो बहौत प्रभावित हुए और गुरु अंगद देव जी से मिलने के लिए खादुर साहिब जहा अंगद देव जी रहते थे वहा गये जब ये घटना हुई थी तब भाई अमर दास जी की उम्र 61 वर्ष थी ।Sri Guru Amar Das Ji story in hindi

गुरु अंगद देव साहिब जी से मिलने के बाद गुरु का संदेश ने उन्हें इतना छुआ था कि वह एक सिख बन गए थे।जल्द ही वह गुरू और समुदाय की सेवा में शामिल हो गए और भाई अंगद देव जी के साथ रहने लगे।

कुछ अन्य कहानिया

Sri Guru Amar das ji History In Hindi

श्री गुरु अंगद देव साहिब जी की सेवा करने लगे भाई अमर दास जी सुबह जल्दी उठ कर गुरु अंगद देव जी के स्नान करने के लिए दूर नदी से पानी भर कर लाते लंगर बनाने के लिए लकडिया लाते गुरु अंगद देव जी के कपडे धोते उन्होंने खुद को पूरी तरह गुरु सेवा में समर्पित किया ।

गुरु राम  दास की सेवा भक्ति देख कर गुरु अंगद देव जी ने ज्योति जोत सम्नाने से पहले मार्च 1552 में गुरुगदी दी जब उन्हें गुरु जी की उपाधि मिली तब उनकी उम्र 71 वर्ष थी

गुरु अमरदास जी के कार्य -Sri Guru Amar das ji Ke Kaam ( कार्य )

  • उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान लंगरों के आयोजनों   पर  विशेष  दिया
  • गुरु के दर्शन से पहले लंगर खाना
  • जाति पर्णाली को समाप्त किया
  • स्त्री और पुरषों के भेदभाव को दूर किया सबको एक सामान बतया सती स्त्रियों को अपना मुख ढकने की प्रथा बंद की
  • सिख मण्डली के बढ़ते आकार के प्रबंधन के लिए एक प्रशासन प्रणाली की स्थापना, जिसे मंजिस  कहते हैं
  • आनंद साहिब बानी (पाठ )जो सिख हर रोज पढ़ते है
  • गोइंदवल शहर की स्थापना की15 52 में
  • श्री गुरु अमरदास जी  ने कुल मिलाकर 907 भजन श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी  को दिए।
  • गुरु अमरदास जी ने सती प्रथा का विरोध किया और विधवाओं के पुनर्विवाह करवाने का समर्थन किया

 

गुरु अमर दास जी ज्योति जोत- Sri Guru Amar Das Death Story In Hindi

Guru Amar Das Ji Jyoti Jot Kaise Samaye

गुरु अमरदास जी 1 सितम्बर 1574 को 95 वर्ष की आयु में गोइंदवाल अमृतसर

के निकट ज्योति ज्योत समाये ज्योति जोत समाने से पहले वो अपनी गुरुगदी (गुरु पद )

उनके दामाद गुरु राम दास जी को दी उन्होंने अपना गुरुपद अपने पुत्रो को नहीं दिया।

Sri Guru Amar Das Ji story in hindi

यह भी पढ़े

प्यारे दोस्तों अगर आप  किसी भी गुरु जी की तस्वीर खरीदना चाहते है तो आप यहाँ नीचे  दिए इस लिंक से भी उनकी तस्वीरे  खरीद सकते है  क्योकि आपकी इस खरीद का कुछ % हिस्सा गुरु घर की सेवा मे ही जायेगा | धन्यवाद

          

दोस्तों अगर आपको Sri Guru Amar Das Ji story in hindi और  Sri Guru Amar Das Ji History in hindi अच्छी लगी तो आप इस पोस्ट को Whatsapp और Facebook पर अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है ताकि वह भी Sri Guru Amar Das Ji story in hindi जान सके धन्यवाद

Share

About Singh Fact

सतश्रीअकाल दोस्तों मेरा नाम हरप्रीत सिंह है | सिंह फैक्ट डॉट काम मै आपका स्वागत है यहाँ पर आपको पढने के लिए मिलेगे रियल फैक्ट्स एंड स्टोरीज इन हिंदी मै और पंजाबी स्टेटस और शायरी , बस आप लोगो के प्यार और सपोर्ट की जरूरत है वह देते रहिये

View all posts by Singh Fact →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.