Gautam Buddha Story in Hindi

Gautam Buddha Story in Hindi – दोस्तों इस पोस्ट मे आपको Gautam Buddha Story  की कहानी story  Hindi मे मिलेगी यह एक बहुत ही मोटिवेट करने वाली कहानी है

Gautam Buddha Story in Hindi

एक किसान और महात्मा बुध की कहानी – Ek kisaan Or Mahatma Buddha Ki Kahani

एक गाँव में एक किसान रहता था जो अपनी परवारिक समस्या और
अन्य समस्याओ से बहुत दुखी रहता था |दुखी रहने की वजह से वह
अपने किसी भी काम को सही से नहीं कर पाता था |किसान को दुखी
देख कर उसके एक मित्र ने  गौतम बुध के पास जाने की सलाह दी और
कहा वह महात्मा सभी के दुखो का निवारण कर देते है |

किसान अपने मित्र की बात मान कर महात्मा बुध जी के पास जाता है
वह पेड़ के नीचे बैठा करते थे लोग अपनी अपनी समस्या बता कर उनसे
हल लेकर चला जाया करते थे |उस किसान से गौतम बुध ने पूछा क्या
समस्या है आपकी , किसान ने कहा – मेरी घरवाली वैसे तो बहुत अच्छी है

एक गाँव में एक किसान रहता था जो अपनी परवारिक समस्या और
अन्य समस्याओ से बहुत दुखी रहता था |दुखी रहने की वजह से वह
अपने किसी भी काम को सही से नहीं कर पाता था |किसान को दुखी
देख कर उसके एक मित्र ने  गौतम बुध के पास जाने की सलाह दी और
कहा वह महात्मा सभी के दुखो का निवारण कर देते है |

Gautam Buddha Story in Hindi

किसान अपने मित्र की बात मान कर महात्मा बुध जी के पास जाता है
वह पेड़ के नीचे बैठा करते थे लोग अपनी अपनी समस्या बता कर उनसे
हल लेकर चला जाया करते थे |उस किसान से गौतम बुध ने पूछा क्या
समस्या है आपकी , किसान ने कहा – मेरी घरवाली वैसे तो बहुत अच्छी है

मेरी सारी बाते मानती है पर कभी कभी वह बहुत जिद करती है मेरी कोई
भी कही बात नहीं मानती |फिर किसान ने कहा मेरे दो बच्चे है दोनों मेरी
सभी बाते मानते है पर कभी कभी मुझे लगता है वह मुझे प्यार नहीं करते |

Gautam Buddha Story in Hindi

फिर किसान ने कहा की मेरी फसल अच्छी नहीं हो पाती इस बार भी अधिक
वर्षा के कारण मेरी फसल बर्बाद हो गयी है ,पिछले वर्ष भी मेरी फसल अच्छी
नहीं हुई थी |फिर किसान ने कहा में कभी कभी इतना निराश हो जाता हु मेरा
मन करता है मुझे मर ही जाना चाहिए |

बुध उसकी सारी बाते चुप रहकर सुनते  जा रहे थे इस तरह किसान ने अपनी
83 छोटी छोटी  समस्या बुध के समक्ष रख दी |बुध ने सारी समस्या सुनने के
बाद कहा – में तुम्हारी किसी भी समस्या का निवारण नहीं कर सकता यह 83
समस्या हर व्यक्ति की जिन्दगी में होती है

समय सदेव एक जेसा नहीं रहता कभी अच्छा आता है तो कभी बुरा ,यह समस्या
हर व्यक्ति की होती है जो कभी खत्म नहीं हो सकती यह सुन कर किसान को
बहुत  गुस्सा आया उसने   कहा  मेने सुना था की आप तो सभी समस्या को दूर कर देते है |

सब झूट है आप तो मेरी एक भी समस्या को दूर नहीं कर पा रहे ,यहाँ आकर
मेने अपना समय ही खराब किया है |क्या आप सच में मेरी कोई सहायता नहीं करेंगे ?

Gautam Buddha Story in Hindi

बुध ने कहा में तुम्हारी इन 83 समस्याओ का निवारण तो नहीं कर
सकता पर में तुम्हारी 84 वी समस्या का हल कर सकता हु |किसान ने
कहा मेरी तो 83 ही समस्या है 84 वी समस्या कोन सी है |बुध ने कहा 84
वी समस्या यह है -की तुम नहीं चाहते की तुम्हारे जीवन में कोई समस्या हो
इसी समस्या के कारण ही तुम्हारी दूसरी समस्याओ का जन्म हुआ है ,

अगर तुम इस बात को मान लो की समस्या होती ही है सभी के जीवन में इस
तरह की समस्या होती ही है ,तुम सोचते हो की इस पूरी दुनिया में सिर्फ तुम ही
दुखी हो और तुमसे ज्यादा दुखी कोई नहीं है|तुम्हे अपना दुःख बड़ा लगता है
पर यदि तुम अपने आस पास देखोगे और अन्य लोगो से पूछोगे तो उन्हें अपना दुःख बड़ा लगेगा ,

सबको अपना दुःख बड़ा लगता है कुछ लोग तो यह चिंता में ही दुखी
रहते है की सिर्फ उन्हें ही यह दुःख क्यों मिला ,पर ऐसा नहीं होता दुःख
और सुख समय के साथ चलते रहते है हम लोग सिर्फ अपने बारे में
सोच कर ही दुखी होते रहते है |

Gautam Buddha Story in Hindi

कोई किसी के बारे में नहीं सोचता ,अगर तुम  पर सुखी समय चल
रहा होता है और उस समय कोई तुम्हारे पास अपनी समस्या लेकर
आता है तो उस समय तुम उस व्यक्ति को सलाह देते हो की ऐसा
करो या फिर वेसा करो पर अगर वही दुःख तुम पर आ जाता है

तो उस समय तुम विचलित हो जाते हो तुम और ज्यादा दुखी हो जाते हो |
यही है 84 वी समस्या की तुम चाहते हो की तुम पर कभी कोई दुःख
आये ही ना पर अगर तुम यह बात जान और मान लो की दुःख और
सुख तो आना ही आना है तो तुम्हारी बाकि 83 समस्या स्वं ठीक हो जाएगी |

बुध ने कहा इसलिए मै तुमारी 83 समस्या ठीक नहीं कर सकता |
तुम्हे मानना ही होगा की दुःख और सुख जीवन में आयेगे ही आयेगे ,
किसी भी व्यक्ति के जीवन में हमेशा दुःख और सुख नहीं रह सकते |

पर अगर तुम चाहते हो की तुम पर इस दुःख और सुख का कोई प्रभाव
ना हो तो वह रास्ता में तुमे दिखा सकता हु ,यह सुन कर किसान बुध
के चरणों में गिर  गया वह समज चुका था की सारी समस्याओ का
निवारण वह खुद ही कर सकता है ……………

Gautam Buddha Story in Hindi

मेरी सारी बाते मानती है पर कभी कभी वह बहुत जिद करती है मेरी कोई
भी कही बात नहीं मानती |फिर किसान ने कहा मेरे दो बच्चे है दोनों मेरी
सभी बाते मानते है पर कभी कभी मुझे लगता है वह मुझे प्यार नहीं करते |

फिर किसान ने कहा की मेरी फसल अच्छी नहीं हो पाती इस बार भी अधिक
वर्षा के कारण मेरी फसल बर्बाद हो गयी है ,पिछले वर्ष भी मेरी फसल अच्छी
नहीं हुई थी |फिर किसान ने कहा में कभी कभी इतना निराश हो जाता हु मेरा
मन करता है मुझे मर ही जाना चाहिए |

बुध उसकी सारी बाते चुप रहकर सुनते  जा रहे थे इस तरह किसान ने अपनी
83 छोटी छोटी  समस्या बुध के समक्ष रख दी |बुध ने सारी समस्या सुनने के
बाद कहा – में तुम्हारी किसी भी समस्या का निवारण नहीं कर सकता यह 83
समस्या हर व्यक्ति की जिन्दगी में होती है

समय सदेव एक जेसा नहीं रहता कभी अच्छा आता है तो कभी बुरा ,यह समस्या
हर व्यक्ति की होती है जो कभी खत्म नहीं हो सकती यह सुन कर किसान को
बहुत  गुस्सा आया उसने   कहा  मेने सुना था की आप तो सभी समस्या को दूर कर देते है |

कुछ अन्य कहानिया

Gautam Buddha Story in Hindi

सब झूट है आप तो मेरी एक भी समस्या को दूर नहीं कर पा रहे ,यहाँ आकर
मेने अपना समय ही खराब किया है |क्या आप सच में मेरी कोई सहायता नहीं करेंगे ?

बुध ने कहा में तुम्हारी इन 83 समस्याओ का निवारण तो नहीं कर
सकता पर में तुम्हारी 84 वी समस्या का हल कर सकता हु |किसान ने
कहा मेरी तो 83 ही समस्या है 84 वी समस्या कोन सी है |बुध ने कहा 84
वी समस्या यह है -की तुम नहीं चाहते की तुम्हारे जीवन में कोई समस्या हो
इसी समस्या के कारण ही तुम्हारी दूसरी समस्याओ का जन्म हुआ है ,

Gautam Buddha Story in Hindi

अगर तुम इस बात को मान लो की समस्या होती ही है सभी के जीवन में इस
तरह की समस्या होती ही है ,तुम सोचते हो की इस पूरी दुनिया में सिर्फ तुम ही
दुखी हो और तुमसे ज्यादा दुखी कोई नहीं है|तुम्हे अपना दुःख बड़ा लगता है
पर यदि तुम अपने आस पास देखोगे और अन्य लोगो से पूछोगे तो उन्हें अपना दुःख बड़ा लगेगा ,

सबको अपना दुःख बड़ा लगता है कुछ लोग तो यह चिंता में ही दुखी
रहते है की सिर्फ उन्हें ही यह दुःख क्यों मिला ,पर ऐसा नहीं होता दुःख
और सुख समय के साथ चलते रहते है हम लोग सिर्फ अपने बारे में
सोच कर ही दुखी होते रहते है |

कोई किसी के बारे में नहीं सोचता ,अगर तुम  पर सुखी समय चल
रहा होता है और उस समय कोई तुम्हारे पास अपनी समस्या लेकर
आता है तो उस समय तुम उस व्यक्ति को सलाह देते हो की ऐसा
करो या फिर वेसा करो पर अगर वही दुःख तुम पर आ जाता है

तो उस समय तुम विचलित हो जाते हो तुम और ज्यादा दुखी हो जाते हो |
यही है 84 वी समस्या की तुम चाहते हो की तुम पर कभी कोई दुःख
आये ही ना पर अगर तुम यह बात जान और मान लो की दुःख और
सुख तो आना ही आना है तो तुम्हारी बाकि 83 समस्या स्वं ठीक हो जाएगी |

Gautam Buddha Story in Hindi

बुध ने कहा इसलिए मै तुमारी 83 समस्या ठीक नहीं कर सकता |
तुम्हे मानना ही होगा की दुःख और सुख जीवन में आयेगे ही आयेगे ,
किसी भी व्यक्ति के जीवन में हमेशा दुःख और सुख नहीं रह सकते |

पर अगर तुम चाहते हो की तुम पर इस दुःख और सुख का कोई प्रभाव
ना हो तो वह रास्ता में तुमे दिखा सकता हु ,यह सुन कर किसान बुध
के चरणों में गिर  गया वह समज चुका था की सारी समस्याओ का
निवारण वह खुद ही कर सकता है …………… Gautam Buddha Story in Hindi

यह भी पढ़े

दोस्तों अगर आपको यह  पोस्ट  Gautam Buddha Story in hindi यह    कहानी अच्छी लगी  तो आप इस कहानी को whatsapp और facebook पर शेयर करे  धन्यवाद |

Share

About Singh Fact

सतश्रीअकाल दोस्तों मेरा नाम हरप्रीत सिंह है | सिंह फैक्ट डॉट काम मै आपका स्वागत है यहाँ पर आपको पढने के लिए मिलेगे रियल फैक्ट्स एंड स्टोरीज इन हिंदी मै और पंजाबी स्टेटस और शायरी , बस आप लोगो के प्यार और सपोर्ट की जरूरत है वह देते रहिये

View all posts by Singh Fact →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.